Shayari Sangrah

न वो आ सके न हम कभी जा सके,
न दर्द दिल का किसी को सुना सके,
बस बैठे है यादों में उनकी,
न उन्होंने याद किया और न हम उनको भुला सके !!

=======x=======x========

हम सिमटते गए उनमें और वो हमें भुलाते गए, हम मरते गए उनकी बेरुखी से, और वो हमें आजमाते गए, सोचा की मेरी बेपनाह मोहब्बत देखकर सीख लेंगी वफाएँ करना, पर हम रोते गए और वो हमें खुशी खुशी रुलाते गए..!

Shayari Collection

ना जाने कौनसे गुनाह 🙇 कर बैठे हैं,
जो तमन्नाओं की उम्र 👦 में तज़ुर्बे मिल रहे हैं ।।

loading...


Cpm Affiliation : the cpm advertising network

Free Earn By Champcash

Contact Us

Name

Email *

Message *

InstaGa