Photo Shayari

Sunday, June 04, 2017

*चलकर देखा है अक्सर, मैंने अपनी चाल से तेज.....*

*पर वक्त, और तकदीर से आगे, कभी निकल न सका....*

==========#============

*कभी उम्मीदें उधड़ जाएं, तो मेरे पास ले आना..*

*मैं हौसलों का दर्जी हूँ, मुफ़्त में रफ़ू कर दूंगा....*

You Might Also Like

0 blogger-facebook

loading...


Cpm Affiliation : the cpm advertising network

Free Earn By Champcash

Contact Us

Name

Email *

Message *

InstaGa